खेती को जिंदा रखना है तो नैनो यूरिया को अपनाना होगा: बीडीओ चोलापुर

Advertisement
Advertisement
  • नैनो कृषि के क्षेत्र मे एक बड़ी छलाँग है: सुनील पाण्डेय एडीसीओ
  • चोलापुर मे ब्लाक स्तरीय किसान गोष्ठी संपन्न

चोलापुर में ब्लॉक स्तरीय किसान गोष्ठी का आयोजन किया गया जिसमें पुराने हथियारो से नये जमाने की लड़ाई नही लड़ी जा सकती।आज हमे खेती को जिंदा रखना है तो नैनो यूरिया को अपनाना ही होगा।पुरानी लीक पर चलकर हम कृषि और किसानो का नुकसान ही कर रहे हैं”
उपरोक्त पंक्तियाँ चोलापुर सभागार मे ब्लाक स्तरीय किसान गोष्ठी के मुख्य अतिथि के पद से बीडीओ चोलापुर अशोक कुमार चौरसिया ने अपने संबोधन मे कहीं।विशिष्ट अतिथि के रूप मे अपर जिला सहकारी अधिकारी सुनील पाण्डेय ने कहा कि नैनो यूरिया तरल रूप मे दुनिया का पहला उर्वरक है जिसे भारत सरकार के उर्वरक नियंत्रण आदेश द्वारा अधिसूचित किया गया है।इसकी सफलता और संतुष्टि की दर आश्चर्यजनक है।इफको के श्री अक्षय कुमार पाण्डेय द्वारा नैनो यूरिया के प्रयोग के तरीके और इसके खेती मे फायदों के सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी दी गई ।उन्होने कहा कि इफको नैनो यूरिया नाइट्रोजन कण का आकार 20-50 नैनो मी. तक होता है।इफको नैनो यूरिया
इफको नैनो यूरिया नैनो तकनीक आधारित क्रांतिकारी कृषि आदान है जो पौधों को नाइट्रोजन प्रदान करता है। एडीओ सहकारिता संगीता वर्मा ने अपने संबोधन मे कहा कि विकास खंड चोलापुर के किसानो को आसानी से नैनो यूरिया उपलब्ध हो सके ,इसके लिए सभी सहकारी समितियों पर नैनो यूरिया को आधा लीटर की बोतल मे उपलब्ध कराया गया है।
किसान गोष्ठी मे कृषि वैज्ञानिक इफको अनिल सिंह, एडीओ कृषि शिवदास ,एडीओ आईएसबी रविप्रकाश सिंह समेत अन्य लोग उपस्थित रहे।
छोटे आकार और आयतन अनुपात में अधिक पृष्ठ क्षेत्रफल के कारण, इफको नैनो यूरिया कण फसलों के लिए आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं।
अपर जिला सहकारी अधिकारी पिंडरा संतोष कुमार ने कहा कि नैनो यूरिया किसानो की आय बढ़ाने के साथ ही उनकी सुविधा मे भी वृद्धि करता है।एडीओ कृषि देवेंद्र पांडेय ने उपस्थित कृषको को धन्यवाद ज्ञापन करते हुए गोष्ठी के समापन की घोषणा की।गोष्ठी मे सुनील मौर्य,ऋषि सिंह,दुर्गा मिश्र,अभय सिंह सोनू,भोला शर्मा, जितेन्द्र पांडेय, अरविंद दूबे इत्यादि उपस्थित रहे।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Previous post सहायक शिक्षा निदेशक ने विद्यालयों का किया निरीक्षण
Next post स्नेह, धैर्य व सेवाभाव का दूसरा नाम है नर्स : डॉ. प्रसन्न