आई एम ए बनारस शाखा की आपातकालीन कार्यकारिणी सदस्यों की बैठक.

संवाददाता:-संसद वाणी हिंदी समाचार पत्र

●बैठक में निर्णय लिया गया जांच तक ब्लड बैंक संचालन की पूर्ण अनुमति नहीं दी जाएगी.

आज आई एम ए बनारस की आपातकालीन कार्यकारिणी सदस्यों की एक बैठक बुलाई गई जिसमें सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया कि, आई एम ए बनारस शाखा अपने ब्लड बैंक का संचालन तत्काल प्रभाव से, पूर्ण रूप से स्थगित कर दें, जब तक की औषधि निरीक्षक वाराणसी श्री सौरभ दुबे की जांच प्रक्रिया पूर्ण न हो जाये, एवं उनके द्वारा ब्लड बैंक संचालन करने की पूर्ण अनुमति न प्रदान कर दी जाए, व रोक लगाई प्रक्रियाओं का संचालन करने की अनुमति न दे दी जाये, जिसमें की कोई अन्य अनियमितताओं का आरोप/ आपत्तियाँ आई एम ए बनारस ब्लड बैंक पर न लग जाये.
सारे सदस्यों ने आई एम ए बनारस शाखा का नाम धूमिल एवं प्रतिष्ठा का दुष्प्रचार औषधि विभाग द्वारा होने से अत्यंत मर्माहत एवं आहत होने की बात की तथा असली दोषियों पर कार्यवाही करने की बात न कि आई एम ए बनारस शाखा जो कि एक अति विश्वसनीय संस्था के रूप में प्रचलित है, उस संस्था की छवि को उछालना गलत माना.
यह भी आपके संज्ञान में डालना है कि जिस आई एम ए में कर्मचारी का नाम लिया जा रहा है उसे पूर्व में ही आई एम ए बनारस शाखा द्वारा बर्खास्त कर दिया गया था और वह शाखा में कार्यरत नहीं है.
उपरोक्त लिखी गई प्रक्रिया जब तक की औषधि निरीक्षक द्वारा पूर्ण नहीं की जाती है तथा जिस व्यक्ति के खिलाफ f.i.r. हुआ है उसे पकड़कर पूछताछ कर और यदि जो अन्य लोग भी दोषी हो तो उनका उल्लेख अपनी जांच रिपोर्ट में सम्मिलित कर, पूर्ण जांच आख्या निष्कर्ष सहित प्रस्तुत कर अपनी संपूर्ण कार्यवाही करें.
जब तक औषधि विभाग द्वारा कार्यवाही पूर्ण नहीं कर दी जाती, तब तक आई एम ए बनारस ब्लड बैंक का संचालन संभव नहीं है जिसका अत्यंत खेद है किंतु सुगम संचालन हेतु अति आवश्यक भी है.
आई एम ए बनारस शाखा के प्रतिष्ठित ब्लड बैंक के द्वारा विगत 40 वर्षों से बनारस के साथ, पूर्वांचल के अन्य जनपदों के मरीजों को, ब्लड/ प्लेटलेट आदि 24×7 की व्यवस्था के साथ समस्त प्रकार के ब्लड यूनिट उपलब्ध निरंतर कराए जाते रहे हैं तथा जनपद वाराणसी का यह एक मात्र 24 घंटे चलने वाला ब्लड बैंक है. इस प्रकार की कार्यवाही से, जबकि वाराणसी में डेंगू का प्रकोप चरम पर है तथा वर्तमान में प्लेटलेट एवं सिंगल डोनर प्लेटलेट्स SDP की अत्यधिक मात्रा में आपूर्ति की आवश्यकता है, यह बात अति महत्वपूर्ण है व इसे ध्यान में भी रखना अत्यधिक आवश्यक है.
आई एम में बनारस शाखा हमेशा से पारदर्शिता से कार्य करता रहा वह इसी क्रम में संपूर्ण रूप से हर प्रकार की जांच में सहयोग के लिए तत्पर है
जनहित में मरीजों की परेशानियों को देखते हुए हम औषधि विभाग से अनुरोध करते है कि, अपनी जांच प्रक्रिया अति शीघ्र पूर्ण कर दोषी व्यक्तियों की कार्रवाई करें व आई एम ए ब्लड बैंक को पूर्व की तरह, पूर्ण संचालित करने की अनुमति प्रदान करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Previous post 7 दिवसीय आजादी के अमृत महोत्सव का आयोजन।
Next post ग्रामसचिव के खिलाफ प्रभारी मंत्री ने बैठाई जांच।प्रधान ने सचिव पर लगाया लूटपाट करने का आरोप।