बाल श्रमिक विद्या योजना के तहत बालक को एक हजार व बालिका को मिलेंगे 12 सौ रूपये प्रतिमाह सहायता

Advertisement
Advertisement

संसद वाणी/गाजीपुर।

श्रम प्रवर्तन अधिकारी, गाजीपुर लईक अहमद द्वारा बताया गया है कि जिन बाल श्रमिकों/कामकाजी बच्चों के माता-पिता नहीं हैं या वे दिव्यांग हैं, ऐसे बाल श्रमिकों/कामकाजी बच्चों को श्रम विभाग द्वारा संचालित ‘‘बाल श्रमिक विद्या योजना’’ के अंतर्गत बालक को एक हजार रूपये और बालिका को बारह सौ रूपये प्रति माह दिये जायेंगे। श्रम विभाग द्वारा संचालित ‘‘बाल श्रमिक विद्या योजना’’ के अंतर्गत गाजीपुर जिले में पात्रता के आधार पर कुल 49 कामकाजी बच्चे चयनित किये गये हैं, जिनमें 25 कामकाजी बालिकायें एवं 24 कामकाजी बालक हैं। माह-अक्टूबर, एवं नवम्बर 2021 का तथा 49 में से 7 कामकाजी बच्चे, जिसमें 2 बालक एवं 5 बालिकायें हैं, जिनको माह-अक्टूबर, नवम्बर, व दिसंबर, 2021 एवं जनवरी, 2022 का आर्थिक सहायता के रूप में कुल धनराषि एक लाख पचीस हजार सीधे उनके खाते में भेज दिया गया है। श्रम प्रवर्तन अधिकारी, पंचेष्वरी द्वारा बताया गया कि योजना का उद्देष्य बाल व किषोर श्रमिकों को षिक्षा का समान अवसर देकर उनका सर्वांगीण विकास करना है। बताया कि बच्चों की विद्यालय में न्यूनतम 70 प्रतिषत उपस्थिति का सत्यापन विद्यालय के प्रधानाचार्य एवं क्षेत्रीय श्रम प्रवर्तन अधिकारियों की जांच के आधार पर इस योजना के अंतर्गत आर्थिक सहायता दिए जाने का प्राविधान है। टी.आर.पी नया सवेरा अमीनुद्दीन ने बताया कि कामकाजी बच्चों/अभिभावकों को आर्थिक सहायता के रूप में कुल धनराषि एक लाख पचीस हजार सीधे उनके खाते में भेज दिया गया है तथा बच्चों का नियमित रूप से विद्यालय से अनुश्रवण किया जाता है।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Previous post वार्षिक पुरस्कार वितरण एवं ‘गाजीपुर गौरव’ सम्मान समारोह 15 अप्रैल को
Next post योगी के बुल्डोजर को ठेंगा दिखाते हुए प्राचार्य का बेटा आनंद उर्फ सोनू राय ने ठेके पर नकल ली गारंटी।