भारत को परम वैभव तक ले जाने के लिए हमें आत्मनिर्भर बनना होगा – शंकर गिरी

Advertisement
Advertisement

कार्यकर्ताओं को पत्रकारों के समक्ष धैर्य का परिचय देना होगा – अशोक पांडेय


प्रशिक्षण वर्ग के दूसरे दिन महानगर अध्यक्ष विद्यासागर राय की अध्यक्षता में 7 सत्रों में विभिन्न वक्ताओं ने अपने विषय रखते हुए किया संबोधित।


वाराणसी/संसद वाणी
भारतीय जनता पार्टी महानगर के तीन दिवसीय प्रशिक्षण अभियान के दूसरे दिन की विषय प्रस्तावना महामंत्री जगदीश त्रिपाठी ने रखी।
पहले यानी छठवें सत्र में "संगठन संरचना में हमारी भूमिका" विषय पर प्रशिक्षण ले रहे कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए वरिष्ठ नेता व पूर्व क्षेत्रीय अध्यक्ष किसान मोर्चा,उदय प्रताप सिंह "पप्पू" ने कहा कि तीन बातों पर संगठन की मजबूती निर्भर रहती है। पहला संवाद, दूसरा संपर्क और तीसरा प्रवाह।
उन्होंने कहा कि किसी भी योजना को बनाने के लिए कार्य पद्धति की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। हमारा संगठन दुनिया का सबसे मजबूत संगठन है, इसके पीछे भी हमारी कार्यपद्धति की सबसे अहम भूमिका है। 
उन्होंने कहा कि प्रत्येक कार्यकर्ता को संगठन में कार्य करते समय मूल तत्व को समझना आवश्यक है। भाजपा का मूल तत्व सामूहिकता में ही एकता है और कार्यपद्धति की योजना के अनुसार ही कोई भी निर्णय सामूहिक सुझाव लेने के बाद ही किया जाता है। किसी भी कार्य की सफलता चार चीजों पर निर्भर करती है। योजना बनाना, उसको जमीन पर उतारना, मॉनिटरिंग करना और उसकी समीक्षा करना। संगठन में कार्य करते समय एकता का भाव होनी चाहिए तथा एक दूसरे के प्रति सम्मान का भाव होना चाहिए।
उन्होंने कहा कि निर्णय प्रक्रिया ऐसी होनी चाहिए जिसमें कोई दोष ना हो। किसी भी निर्णय के पहले आपस में पर्याप्त चर्चा होनी चाहिए। संगठन का सबसे महत्वपूर्ण कार्य, कार्यकर्ता का निर्माण करना होता है। कार्यकर्ता ईमानदारी से कार्य करें यही भाजपा का मूल मंत्र है।
छठे सत्र का संचालन तथा परिचय महानगर मीडिया प्रभारी किशोर कुमार सेठ द्वारा प्रस्तुत किया गया।
सातवें सत्र को संबोधित करते हुए "पिछले 6 साल में अंत्योदयी पहल" विषय को रखते हुए क्षेत्रीय उपाध्यक्ष दिलीप पटेल ने कहा कि समाज के अंतिम पंक्ति में खड़ा व्यक्ति हमारे साथ जुड़ा है, इसीलिए आज हम सत्ता में हैं।
उन्होंने कहा अंत्योदय एवं एकात्म मानववाद के दर्शन को लेकर पार्टी व सरकार कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी का कार्यकर्ता सरकार और संगठन के बीच सेतु है और सरकार की सारी योजनाएं अंत्योदय पहल के अनुरूप समाज के निर्बल, निर्धन व कमजोर लोगों तक पहुंचाने का कार्य कर रहे हैं।
सातवें सत्र का संचालन व वक्ता परिचय महामंत्री अशोक पटेल द्वारा प्रस्तुत किया गया।
आठवें सत्र को प्रदेश मंत्री शंकर गिरी ने "आत्मनिर्भर भारत" विषय को कार्यकर्ताओं के समक्ष रखते हुए कहा कि भारत को परम वैभव तक ले जाने के लिए हमें भारत को आत्मनिर्भर बनाना होगा। इसके लिए भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिन-रात भारत को शक्तिशाली, समृद्ध राष्ट्र और आत्मनिर्भर बनाने के लिए कार्य कर रहे हैं और भारत के लघु उद्योगों को बढ़ावा दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आत्मनिर्भर भारत के लिए तीन चरण में कुल 27 लाख करोड़ से भी ज्यादा की घोषणा की। उन्होंने कहा कि मेक इन इंडिया के तहत पीएम मोदी ने तय किया कि 200 से ज्यादा रक्षा उपकरण भारत में ही बनाएंगे।
उन्होंने कहा कि जब हम खुद आत्मनिर्भर बनेंगे तभी देश को भी आत्मनिर्भर की ओर ले जाएंगे।
उन्होंने कहा कि भाजपा व्यक्तित्व के निर्माण की पाठशाला है, जहां पर राष्ट्र के उत्थान के लिए निर्माण के लिए भारत और भारतीय संस्कृति को अच्छा बनाने के लिए भारतीय जनता पार्टी कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित किया जाता है।
श्री गिरी ने कहा कि आत्म निर्भर के मामले में खुद भी वह अपने परिवार को भी आत्मनिर्भर बनाना पड़ेगा।
आठवें सत्र का संचालन तथा वक्ता परिचय मंत्री नीरज जायसवाल ने कराया। जिले के प्रभारी व क्षेत्रीय महामंत्री सुशील त्रिपाठी ने प्रशिक्षण शिविर के नवें सत्र में "भारत का बढ़ता सुरक्षा सामर्थ्य" विषय पर अपनी बात रखते हुए कहा कि भारत माता की जय कहने से आत्मबल और मजबूत होता है। यही कारण है कि आज विदेशों में भी भारत माता की जय जय कार हो रही है, जो हर भारतीयों के लिए गर्व का विषय है।
उन्होने कहा कि कांग्रेस सरकार के हर कालखंड में भ्रष्टाचार व्याप्त रहा है, जो देश के विकास में बहुत बड़ी बाधा रही है और क्षेत्र में कमजोर हुआ तथा भारतीय जनता पार्टी के शासनकाल में भारत परमाणु संपन्न, शक्ति संपन्न देश बना और पूरे विश्व के अंदर भारतीय तिरंगे का गौरव बढ़ा है।
नवें सत्र का संचालन मंत्री डॉक्टर अनुपम गुप्ता* ने किया
दसवें सत्र में सोशल मीडिया के क्षेत्रीय संयोजक पुष्पेंद्र सिंह ने "सोशल मीडिया की समझ" विषय पर प्रकाश डालते हुए कहा कि सशक्त लोकतंत्र के लिए चौथा मजबूत स्तंभ मीडिया होती है और इसके साथ ही सोशल मीडिया की भी मजबूती के साथ भागीदारी है।
उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया का प्रयोग करने के लिए अनुशासन व संयमित होना पड़ेगा।
नवें सत्र का संचालन कुणाल पांडेय ने किया।
ग्यारहवें सत्र "मीडिया के व्यवहार एवं उपयोग" विषय को रखते हुए प्रदेश प्रवक्ता अशोक पांडेय ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं को पत्रकारों के समक्ष धैर्य का परिचय देना होगा। भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ताओं का लोग इसलिए सम्मान करते हैं कि वह शालीनता व संयमित व्यवहार करता है।
उन्होंने कहा कि मीडिया का ही देन है कि उत्तर प्रदेश से चला बुलडोजर बाबा का अभियान पूरे हिंदुस्तान में दौड़ रहा है।
ग्यारहवें सत्र का संचालन उपाध्यक्ष मधुकर चित्रांश ने किया।
प्रशिक्षण वर्ग के दूसरे दिन अंतिम बारहवें सत्र को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय प्रशिक्षण अभियान के क्षेत्रीय संयोजक प्रकाश चंद्र यादव ने कार्यकर्ताओं के समक्ष "व्यक्तित्व विकास" विषय पर बात करते हुए उसकी उपयोगिता बताया।
अंतिम सत्र का संचालन पिछड़ा वर्ग मोर्चा के अध्यक्ष शोभनाथ मौर्य ने किया।

इस दौरान इनकी रही विशेष उपस्थिति
प्रदेश सह मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र सिंह, विद्यासागर राय, नवीन कपूर, जगदीश त्रिपाठी, अशोक पटेल, राहुल सिंह, आत्मा विशेश्वर, साधना वेदांती, डॉ गीता शास्त्री, इंजीनियर अशोक यादव, मधुकर चित्रांश, एडवोकेट अशोक कुमार, महानगर मीडिया प्रभारी किशोर कुमार सेठ, संतोष सोलापुरकर, डॉ अनुपम गुप्ता, नीरज जायसवाल, बृजेश चौरसिया, डॉक्टर हरि केशरी, किशन कनौजिया, दिलीप साहनी, विवेक मौर्य, डॉ रचना अग्रवाल, धीरज गुप्ता, शैलेंद्र मिश्रा, अभिनव पांडेय, कुणाल पांडेय, ऋतिक मिश्रा, कुसुम पटेल, रजत जायसवाल, योगेश सिंह पिंकू, शोभनाथ मौर्य, जितेंद्र सोनकर आदि रहे।
इनकी भी रही भागीदारी
श्री प्रकाश शुक्ला, नम्रता चौरसिया, प्रकाश चंद्र यादव, डॉक्टर राजेश त्रिवेदी, डॉक्टर सुनील मिश्रा, राजकुमार जायसवाल, महेंद्र सिंह गौतम, सुनीति शुक्ला, नमिता सिंह, रजनीश कनौजिया, सत्य प्रकाश आर्य, मोर्चो के अध्यक्ष, प्रकोष्ठों व विभागों के संयोजक सहसंयोजक उपस्थित रहे।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Previous post श्रमिक दिवस पर सम्मानित हुए श्रमिक, हुई संगोष्ठी
Next post सज्जनता की निष्क्रियता ही दुर्जनता का आश्रय है-प्रेमभूषण जी