सज्जनता की निष्क्रियता ही दुर्जनता का आश्रय है-प्रेमभूषण जी

Advertisement
Advertisement

चोलापुर/संसद वाणी

संवाददाता/ दीपक कुमार सिंह

वाराणसी के चोलापुर थाना अंतर्गत नेहिया गांव में चल रहे नौ दिवसीय श्रीरामकथा के आज तीसरे दिन की कथा में कथावाचक प्रेमभूषण जी महाराज ने सज्जनता और दुर्जनता की व्याख्या करते हुए कहा कि किसी भी गलत कार्य का विरोध होना जरूरी है,चाहे वह घर हो या बाहर,गलत व्यक्ति को गलत होने का एहसास होना जरूरी है। अति की सज्जनता और सज्जन व्यक्तियों की निष्क्रियता ही दुर्जनों को आश्रय देती है।
श्री भूषण जी ने कहा कि प्रत्येक घर में तुलसी का पौधा अवश्य होना चाहिए, यह नकारात्मक शक्तियों का हरण कर सकारात्मक शक्तियों का प्रवाह करती हैं।उन्होंने कहा कि सनातन धर्म में प्रत्येक विधि विधान का कारण है, सनातन धर्म में कुछ भी अकारण नहीं होता।
श्री राम जन्मोत्सव से जुड़े प्रसंगों की चर्चा करते हुए महाराज श्री ने कहा कि महाराजा श्री रामचंद्र जी की कई पीढ़ियां गोवंश की सेवा के लिए चर्चित रहीं और खासकर महाराजा दिलीप तो इस मामले में एक उदाहरण के रूप में इतिहास में याद किए गए। उन्होंने कहा कि हमारा इतिहास इस बात का प्रमाण है कि जो भी व्यक्ति गौ संरक्षण के लिए कार्य करता है, उसका विरोध करना करने वाले अपने आप समाप्त हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि मानस की यह पंक्तियां इस बात की प्रमाण हैं – विप्र धेनु सुर संत हित, लीन्ह मनुज अवतार। अर्थात भगवान का धरा पर आगमन भी इन्ही कारणों से होता है।
महाराज श्री ने कई सुमधुर भजनों से श्रोताओं को भावविभोर कर दिया। हजारों की संख्या में उपस्थित रामकथा के प्रेमी भजनों का आनन्द लेते हुए झूमते नजर आए।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Previous post भारत को परम वैभव तक ले जाने के लिए हमें आत्मनिर्भर बनना होगा – शंकर गिरी
Next post आप संगठन प्रभारी पवन तिवारी ने कार्यकर्ताओं में भरा जोश