आरोग्य मेले में लापरवाही चिकित्सक एवं अनुपस्थित पैरामेडिकल स्टाफ पर पड़ी भारी

Advertisement
Advertisement

पूर्व मंत्री एवं विधायक डॉ नीलकंठ तिवारी ने कोनिया पीएचसी में लगे स्वास्थ्य मेला का किया निरीक्षण

निरीक्षण के दौरान आरोग्य मेला से अनुपस्थित चिकित्सक एवं पैरामेडिकल स्टाफ के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही किए जाने का पूर्व मंत्री ने दिए निर्देश

मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने संविदा चिकित्सक को बर्खास्त करने की किया संस्तुति

वाराणसी/संसद वाणी संवाददाता

आरोग्य स्वास्थ्य मेला की अनदेखी एवं लापरवाही संविदा चिकित्सक डॉ राहुल झुनझुनवाला एवं पैरामेडिकल स्वास्थ्य कर्मियों को भारी पड़ा। जिस पर जहाँ डॉ झुनझुनवाला को सेवा से बर्खास्त करने का निर्णय लिया गया, वही अनुपस्थित पाए गए पैरामेडिकल स्टाफ का एक दिन का वेतन अदेय किया गया।
     हुआ यूं कि रविवार को जिले के 52 स्वास्थ्य केंद्रों पर मुख्यमंत्री आरोग्य मेले का आयोजन किया गया। इस दौरान पूर्व मंत्री एवं शहर दक्षिणी विधायक डॉ नीलकण्ठ तिवारी ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ संदीप चौधरी के साथ शहरी पीएचसी कोनिया का भ्रमण कर मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेला का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ राहुल झुनझुनवाला सहित कई अन्य पैरामेडिकल स्टाफ आरोग्य स्वास्थ्य मेला में निरीक्षण के दौरान अनुपस्थित मिले। इस पर पूर्व मंत्री डॉ0नीलकंठ तिवारी ने गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुए मुख्य चिकित्सा अधिकारी को लापरवाह कर्मियों के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही करने का निर्देश दिया। जिसे गंभीरता से लेते हुए मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने डॉ झुनझुनवाला को सेवा से बर्खास्त करने के साथ ही अन्य अनुपस्थित पाए गए पैरामेडिकल स्टाफ का एक दिन का वेतन अदेय किया।
   आरोग्य स्वास्थ्य मेले में मरीजों की नि:शुल्क स्वास्थ्य जांच एवं उपचार किया गया। इसके साथ ही मरीजों को निःशुल्क दवा एवं चिकित्सीय परामर्श भी दिया गया। सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर संचारी रोगों डेंगू, मलेरिया एवं मौसमी बीमारियों के लिए जागरूक किया गया। पूर्व मंत्री एवं विधायक डॉ0नीलकंठ तिवारी ने स्वास्थ्य मेले में दी जा रही चिकित्सकीय सेवाओं की जानकारी प्राप्त की तथा निर्देश दिया कि चिकित्सालय की चिकित्सीय व्यवस्थाओं को सुदृढ किया जाये। मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेले के आयोजन का प्रचार-प्रसार कराया जाये। जिससे अत्यधिक लोग इसका लाभ ले सकें। सीएमओ ने बताया कि डॉ0 झुनझुनवाला को इनके कार्यों के प्रति लापरवाही के लिए पूर्व में भी निरीक्षण अधिकारियों द्वारा शिकायतें की गई, परंतु इनके कार्यों में कोई सुधार नहीं हो रहा है जिसके कारण चिकित्सालय में आने वाले रोगियों को चिकित्सा संबंधी सेवाएं नहीं मिल पा रही हैं। इनके लापरवाही के कारण अन्य राष्ट्रीय कार्यक्रम भी सही प्रकार से संचालित नहीं हो पा रहे हैं इसको देखते हुए ही कड़ी कार्रवाई का निर्णय लिया गया है ।
 सीएमओ डॉ0संदीप चौधरी ने बताया कि आरोग्य स्वास्थ्य मेले का उद्देश्य है कि एक ही छत के नीचे लोगों को अधिकाधिक स्वास्थ्य सुविधाएं, जांच, उपचार और दवाएं आदि उपलब्ध हों। हमारा प्रयास है कि इस मेले से अधिक से अधिक लोग लाभान्वित हों। सभी लोग  सहयोगात्मक व्यवहार करें जिससे जांच, उपचार और दवाओं आदि की सुविधा आसानी से मिल सके।
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Previous post नहरों की सफाई कार्य युद्धस्तर पर अभियान चलाकर करे पूरा, खराब नलकूप को हर हाल में कराए ठीक: स्वतंत्र देव सिंह
Next post कैबिनेट मंत्री आशीष पटेल का सोनभद्र प्रथम आगमन पर करमा में भब्य स्वागत